सुहागन महिलाओं नहीं पहनना चाहिए ये तीन चीज़े, इनको पहनने से बचना चाहिए

शेयर करे

हमारी भारतीय संस्कृति में शास्त्रों को एक खास महत्व दिया गया है। शायद यही वजह है कि जबा जब भी हम कोई शुभ कार्य करने जाते हैं, तो उसे शास्त्रों के मुताबिक ही क्रियान्वित करते हैं। शादी के बाद से लेकर पूजा पाठ तक सभी कार्यों को विधि पूर्वक करने के लिए शास्त्रों की मदद ली जाती है।

शास्त्रों में कई ऐसे नियम बताए गए हैं, जिनका पालन करना सबके लिए अनिवार्य होता है। यदि कोई व्यक्ति इन नियमों का पालन नहीं करता है तो उसे फायदे की जगह नुकसान का सामना करना पड़ता है। खासतौर से महिलाओं के लिए शास्त्रों में कई नियम बताएं गए हैं। इसका प्रमुख कारण यह है कि घर की महिलाओं को घर की लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है। ऐसे में महिलाओं द्वारा किया गये उचित तथा अनुचित कार्यों का प्रभाव पूरे घर पर पड़ता है।

घर के हर मुख्य कार्य में महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान होता है। पूजा पाठ से लेकर तीज त्योहार तक, ये सब महिलाओं की अनुपस्थिति में अपूर्ण होता है। यही वजह है कि घर की महिलाओं को शास्त्रों में बताये गए नियम का पालन अवश्य करना चाहिए।

इस पोस्ट में हम सुहागिन महिलाओं के संदर्भ में कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जिनका पालन सभी सुहागन महिलाओं को करना चाहिए। दरअसल आज के बदलते दौर में महिलाओं के वेशभूषा में भी काफी बदलाव आया है। ऐसे में महिलाएं कुछ ऐसी चीजें भी पहन लेती हैं जो सुहागन महिलाओं को पहनना अशुभ होता है। हम ऐसी ही कुछ चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो भूल कर भी सुहागन महिलाओं को नहीं पहनना चाहिए।

जानते हैं वो चीजे कौन सी हैं-

●पैर में सोना पहनना- शास्त्रों के मुताबिक सुहागिन महिलाओं को भूलकर भी पैर में सोने से बनी वस्तु नहीं पहननी चाहिए। आज के बदलते परिवेश में अक्सर कुछ ऐसी महिलाएं देखने को मिल जाती है जो पैरों में सोने के पायल या बिछिया पहने नजर आती हैं। अगर शास्त्रों की मानें तो यह पूर्णतः गलत है। पैरों में सोना पहनने से धन के देवता कुबेर जी नाराज हो जाते हैं जिससे घर में आर्थिक समस्या उत्पन्न होने लगती है। इसके साथ ही घर में कई अन्य परेशानियां भी आने लगती हैं।

● सफेद साड़ी- हिंदू धर्म में सफेद साड़ी पहनना ऐसे भी अशुभ माना जाता है, परंतु अगर बात करे सुहागिन महिलाओं की तो उन्हें भूल कर भी सफेद साड़ी नहीं पहननी चाहिए।ऐसा माना जाता है कि जो महिलाएं सफेद साड़ी पहनती है उनके दांपत्य जीवन में नकारात्मकता आने लगती है। जिसकी वजह से उनके वैवाहिक जीवन में कई तरह की परेशानियां उत्पन्न होने लगती है।

● काली चूड़ी पहनना-शास्त्रों के मुताबिक सुहागिन महिलाओं को काली चूड़ी नहीं पहननी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि जो महिलाएं काली चूड़ी पहनती हैं, उन्हें शनिदेव के प्रकोप का सामना करना पड़ता है। जो सुहागिन महिलाएं काली चूड़ी पहनती हैं, उनके जीवन में नकारात्मक शक्तियों का वास होने लगता है। इसकी वजह से उनके बच्चों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *