शास्त्रों के अनुसार कभी ना करे इन चीजों का दान, फायदे की जगह होता है नुकसान

शेयर करे

शास्त्रों में दान धर्म को महान पुण्य का कार्य बताया गया है। ऐसा कहा जाता है कि जो व्यक्ति दान धर्म करता है, उसके जीवन से कष्ट दूर होते हैं और उसका जीवन सुखी होता है। शास्त्रों के मुताबिक दान धर्म करने से व्यक्ति का ना केवल यह जन्म सुधरता है, बल्कि परलोक में भी व्यक्ति सुखी रहता है। पुराणों की मान्यता के अनुसार दान धर्म करने से व्यक्ति का आने वाला जन्म भी सुख पूर्वक बीतता है।

यही वजह है कि हर व्यक्ति अपने जीवन में कुछ ना कुछ दान पुण्य का कार्य करता रहता है। परंतु अज्ञानता वश कभी-कभी हम कुछ ऐसी चीजें दान कर देते हैं, शास्त्रों के अनुसार जिन चीजों को दान करना वर्जित माना गया है। माना जाता है कि कुछ ऐसी चीजें होती है जिनको व्यक्ति को भूल कर भी दान नहीं करना चाहिए। इन वस्तुओं को दान करने से व्यक्ति के जीवन में सुख आने के बजाय, व्यक्ति को नुकसान का सामना करना पड़ता है।

आइए जानते हैं ऐसी कौन सी वस्तुएं है, जिन्हें दान करने से व्यक्ति को बचना चाहिए-

● झाड़ू का दान- हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार झाड़ू को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है। यह लगभग हर घर में मौजूद होता है।और हमारे रोजमर्रा के जीवन में इस्तेमाल होता है। ऐसा माना जाता है कि भूल कर भी कभी झाड़ू का दान नहीं करना चाहिए अन्यथा मां लक्ष्मी रुष्ट हो जाती है और घर में पैसे की कमी होने लगती है।

● पहने हुए कपड़े- अक्सर ऐसा देखा जाता है कि जब कपड़े पुराने हो जाते हैं तो लोग इसे गरीबों को दान कर देते हैं। यह एक पुन्य का काम होता है। परंतु हम आपको बता दें कि कभी भी पहने हुए कपड़े किसी पंडित को दान में नही देना चाहिए। ऐसा करने से धन की हानि का सामना करना पड़ता है।

● प्लास्टिक- धार्मिक मान्यता के अनुसार प्लास्टिक की चीजों को भूल कर भी दान नहीं करना चाहिए। अन्यथा व्यवसाय में नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा जो व्यक्ति प्लास्टिक की चीजों को दान में देते हैं ऐसे लोगों की तरक्की में भी बाधाएं उत्पन्न होती है।

● स्टील के बर्तन- घर में सुख एवं शांति को बनाए रखने के लिए स्टील के बर्तन को भी दान करने से बचना चाहिए।

Source: Google

●बासी भोजन-किसी भूखे को भोजन कराना बहुत ही पुण्य का काम होता है परंतु भूल कर भी किसी भी व्यक्ति को बासी भोजन दान में नहीं देना चाहिए। अन्यथा फायदे की जगह नुकसान भुगतना पड़ता है।

● इस्तेमाल किया हुआ तेल- सरसों के तेल का दान करना शनि की शांति के लिए उपयोगी माना गया है परंतु कभी भी भूलकर इस्तेमाल किया हुआ तेल दाल में नहीं देना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि जो लोग इस्तेमाल किया हुआ तेल डाल में देते हैं उनसे शनि देवता नाराज हो जाते हैं, जिसकी वजह से नुकसान का सामना करना पड़ता है।

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *