17 साल बाद अपने पैतृक गांव पहुंचा ये बॉलीवुड एक्टर, लोगों ने किया जोरदार स्वागत

शेयर करे

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत 17 साल बाद बिहार के अपने पैतृक गांव बड़हरा कोठी प्रखंड के मलडीहा पहुंचे। वहां पहुंचने के बाद गांव के लोगों ने सुशांत का जोरदार स्वागत किया और उनका पूरे रीति रिवीज के साथ मुंडन संस्कार भी हुआ।

सुशांत सिंह राजपूत, अपने चचेरे भाई और छातापुर के निवर्तमान विधायक नीरज कुमार सिंह ‘बबलू’ और भाभी नूतन सिंह जोकि बिहार विधान परिषद की सदस्य भी हैं, के साथ गांव पहुंचे। इस दौरान जैसे ही वहां के लोगों को सुशांत के आने की खबर मिली उनके फैन्स एक झलक पाने को मलडीहा पहुंचने लगे। यहां पहुंचने के बाद उन्होंने कुल देवी-देवता, ग्राम देवता और ऐतिहासिक बाबा बरूनेशवर मंदिर में पूजा अर्चना की।

रविवार लगभग 10 बजे अभिनेता के मंदिर पहुंचते ही उपस्थित श्रद्धालु उन्हें एक नजर देख लेने को बेताब दिखे। बरनेश्वर में सभी मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद सुशांत ने सभी परिजनों के अलावा अपने फैन्स के साथ फोटो भी खिंचवाया। इसके अलावा उन्होंने फैन्स के भावनाओं का ख्याल रखते हुए सभी का अभिवादन करते नजर आए। .

बाहर रहने के बाबजूद परिवार के लोग मैथिल संस्कृति को नहीं भूले हैं। बी कोठी में अपने घर पर कुल देवी की पूजा कर ननिहाल खगड़िया रवाना हुए। जहां उनका मुंडन समारोह हुआ। सुशांत सिंह राजपूत बौरणय के स्व. महेश्वर प्रसाद सिंह के नाती हैं। 13 मई को पूर्वी बोरणय पंचायत के जयप्रभा नगर से नदी पार कर अपने ननिहाल बोरणय स्थान पहुंचे, जहां मां विषहरी स्थान में उनका मुंडन संस्कार हुआ।

इसके बाद शनिवार को अपने गांव पहुंचकर सुसांत अपने सारे रिश्तेदार से मिले। फिर रविवार को वे अपने खेत और आम के बगीचे को देखने निकले, वहां भी उनके फैंस ने पीछा नहीं छोड़ा। इस दौरान सुसांत ने किसी भी फैंस को निराश नहीं किया बल्कि सबके साथ सेल्फी भी ली।

बता दें सुशांत सिंह राजपूत पूर्णिया जिले के बी कोठी प्रखंड के रहने वाले हैं। उनके पिता सरकारी अधिकारी हैं। उनका परिवार सन् 2000 के शुरूआती समय में दिल्ली में बस गया। सुशांत की 4 बहनें भी हैं जिसमें से एक मीतू सिंह राज्य स्तर की क्रिकेट खिलाड़ी हैं। सुशांत की शुरुआती पढ़ाई सेंट कैरेंस हाई स्कूल, पटना से हुई है और इसके आगे की पढ़ाई दिल्ली के कुलाची हंसराज मॉडल स्कूल से हुई है। इसके बाद उन्होंने दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से उन्होंने मैकेनिल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की।

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *