शारीरिक संबंध बनाने से पहले इस खास तरह से बनाएं अपने पार्टनर का मूड

शेयर करे

पति-पत्नी और ब्वॉयफ्रेंड-गर्लफ्रेंड का रिश्ता विश्वास पर टिका होता है। इसके अलावा रिश्तों में मधुरता बनाए रखने के लिए शारीरिक संबंध भी अहम भूमिका निभाते हैं। शारीरिक संबंध बनाने से कपल एक दूसरे और करीब आ जाते हैं। लेकिन अगर शारीरिक संबंध बनाने वक्त कपल का तालमेंल सही नहीं होता तो वह इसका भरपूर आनंद नहीं उठा पाते। क्योंकि पुरुष और महिला दोनों की फीलिंग्स काफी अलग होती हैं। पुरुषों को पेनिट्रेट करना अच्छा लगता है और महिलाओं को शारीरिक संबंध बनाने से पहले मूड में आने के लिए फोरप्ले में समय बिताना अच्छा लगता है। इसलिए शारीरिक संबंध बनाने से पहले फोरप्ले की अहम भूमिका होती है।

फोरप्ले कब करना चाहिए

आपको फोरप्ले कब करना है यह परिस्थिति पर ही निर्भर करता है। कई बार आपकी पार्टनर पहले से ही संबंध बनाने के मूड में होती है तो आपको फोरप्ले पर समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। लेकिन अगर वह नींद में है या शारीरिक संबंध के मूड में नहीं हैं तो आप उनके संवेदनशील अंगो को और आस-पास की जगहों को स्पर्श करके उन्हें उत्तेजित करें। ऐसा करने से वह मूड में आ जाएंगी। साथ ही अधिकतर महिलाओं के हार्मोन का उतरना और चढ़ना उसके शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्थिति पर निर्भर करता है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक

साल 2009 के जर्नल ऑफ सेक्चुअल मेडीशन का कहना है कि फोरप्ले और इंटरकोर्स के समय महिलाओं को ऑर्गेज़्म पाने और मेल पार्टनर को प्लेजर देने के लिए इसकी सही जानकारी होना भी जरुरी होता है। 2,360 महिलाओं का कहना है कि ऑर्गेज़्म पाने से लिए इंटरकोर्स करना जरुरी होता है ना ही फोरप्ले करना। शारीरिक संबंध बनाने से पहले इंटरकोर्स करना अच्छा होता है। साथ ही वेनजाइनल ड्राइनेस, स्ट्रेस, यूटीआई के हालातों मे फोरप्ले की बहुत जरुरत पड़ती है।

फोरप्ले मूड में लाने के लिए इस्तेमाल करें

हमेशा फोरप्ले करना जरुरी नहीं होता है, कभी-कभी इस अंदाज को बदलने की जरुरी भी होती है। यह तो सिर्फ एक ऐसी तकनीक होती है जो मूड में लाने के लिए इस्तेमाल की जाती है। बहुत ज्यादा स्ट्रेस में रहने पर, हार्मोन असंतुलन, वैगानिस्मस, डिस्पैरियुनिया, जैसे हेल्थ कंडीशन में इसकी जरुरत होती है। तब ही फोरप्ले काम आता है।

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *