राजकुमार का बेटा निकला जाना माना अभिनेता, हैंडसम इतना कि ऋतिक, रणबीर भी हो जाए फ़ैल

शेयर करे

दोस्तों आज के जमाने में हिंदी सिनेमा बहुत बड़ा रूप ले चुकी हैं. यहाँ की फिल्मे देश विदेश में खूब सुक्र्हिया बटोरती हैं. लेकिन आज से कुछ समय पहले की बात करे तो इसका बोल बाला सिर्फ भारत में ही ज्यादा था. पहले के जमाने में तो लोग बॉलीवुड के प्रति हद से ज्यादा पागल थे. ऐसे में उस जमाने के फिल्मी सितारों की वेल्यु भी बहुत हुआ करती थी. वैसे तो बॉलीवुड में कई सितारे आते हैं और चले जाते हैं लेकिन कुछ सितारें ऐसे भी होते हैं जो हमेशा के लिए हमारे दिल और दिमाग अपर छाप छोड़ जाते हैं. बॉलीवुड में ऐसे ही एक महान सितारे हुए राज कुमार साहब.

राज कुमार ने बॉलीवुड में कई हिट फिल्मे दी हैं. आज वो भले ही हमारे बीच ना हो लेकिन उनकी छवि आज भी हमारे दिल और दिमाग में बसी हुई हैं. राजकुमार जब फिल्मो में काम करते थे तो उनकी लोकप्रियता देखते ही बनती थी. वे अपने ज़माने के नामचीन सितारें थे. लोग उनकी फ़िल्में बेहद पसंद करते थे. एक अच्छे लुक के साथ साथ उनके अंदर एक बेहतरीन अभिनेता भी था. उनका अभिनय उर डायलाग डिलीवरी काफी अव्वल दर्जे कि थी. जब वे ऑनस्क्रीन कोई डायलाग बोलते तह तो दर्शकों की नज़रे उन्ही के ऊपर गड़ी रहती थी. 3 जुलाई 1996 को राज कुमार ने इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया था. ऐसे में उनकी अभिनय की इस विरासत को अब उनका बेटा पुरु राजकुमार आगे बड़ा रहा हैं. आज के इस आर्टिकल में हम आपको राजकुमार के बेटे पुरु के बारे में ही बताने जा रहे हैं.

बॉलीवुड में ये काफी पुरानी परंपरा रही हैं कि यदि बाप फिल्म में हीरो हैं तो उसका बेटा भी एक्टिंग में कम से कम एक बार जरूर हाथ आजमाएगा. ऐसे में कुछ अभिनेताओं के बच्चे इस इंडस्ट्री में सफल हो जाते हैं तो वहीँ कुछ अपने पेरेंट्स की तरह नाम कमाने के लिए स्ट्रगल करते रहते हैं.

राजकुमार के बेटे पुरु की बात करे उनका फिल्मी करियर भी कुछ ख़ास नहीं रहा हैं. उन्हें वो फेम तो नहीं मिल पाई जो उनके पिता को मिली थी लेकिन हाँ जो लोग उन्हें जानते हैं वे उनके काम की तारीफ़ जरूर करते हैं.

पुरु ने बॉलीवुड में पहली फिल्म ‘बाल ब्रम्हचारी’ की थी. ये फिल्म 1996 में आई थी जो कि पुरु के पिता राजकुमार के निधन के कुछ महीने बाद रिलीज हुई थी. ऐसे में राजकुमार अपने बेटे को बड़े पर्दे पर भी नहीं दक पाए. पुरु की यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कमाल नहीं कर पाई. ऐसे में पुरु ने तीन साल का ब्रेक लिया और फिल साल 2000 में ‘हमारा दिल आपके पास है’ फिल्म में विलेन की भूमिका निभाई. ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट साबित हुई. पुरु इसी साल रिलीज हुई ‘मिशन कश्मीर’ फिल्म में कैमियो (गेस्ट रोल) भी निभा चुके हैं.

इसके बाद पुरु ने कई कम बजट वाली बी-ग्रेड फिल्मो में भी काम किया. बाद में साल 2003 में वे मल्टी-स्टारर फिल्म एलओसी कारगिल में दिखाई दिए. फिर 2006 में वे उमराव जान फिल्म में नज़र आए. इसके बाद उन्होंने दोष (2007), दुश्मनी (2009), वीर (2010) और एक्शन जैक्सन (2014) जैसी फिल्मो में भी अभिनय किया.

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *