सिंदूर और शादी से पहले रिलेशन को लेकर रेखा ने दिया बयान ,कहा – मेरी किस्मत अच्छी है मैं कभी प्रेग्नेंट नहीं हुई ,हर बार बच गई..

शेयर करे

हिन्दी फ़िल्मों की अभिनेत्री भानुरेखा गणेशन उर्फ़ रेखा का जन्म 10 अक्टूबर 1954 को मद्रास में हुआ था. प्रतिभाशाली रेखा को हिन्दी फ़िल्मों की सबसे अच्छी अभिनेत्रियों में से एक माना जाता है. जैसे-जैसे रेखा की उम्र बढ़ती गयी उनका सौंदर्य निखरता गया,उन्होंने योगा, पेंटिंग और बागबानी को अपना दोस्त बना लिया, लेकिन उनकी सबसे पक्की सहेली है तन्हाई. आज रेखा अकेले होने और अकेले रह पाने को अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि मानती हैं.

बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री रेखा पर एक किताब लिखी गई है, इस किताब में रेखा और उनके जीवन से जुड़ी कई तरह के बातों का जिक्र किया गया है। मशहूर फिल्म अभिनेत्री रेखा को लेकर इस किताब में कई चौंकाने वाले खुसाले किए गया है। इस किताब को लेखक यासीर उस्मान ने लिखा है। रेखी की जीवनी पर आधारित बायोग्राफी का नाम ‘रेखा : एन अनटोल्ड स्टोरी’ है।

किस्सा रेखा के “सिन्दूर” का

रेखा के बारे में कई ऐसी बातें हैं जो लोग जानना चाहते हैं, एक प्रश्न जो उन्हें देखने के बाद हर किसी के मन में आता है कि रेखा सिंदूर क्यों लगाती हैं?

सच्चाई तो यही है कि उनकी मुंबई बेस्ड बिजनस मैन मुकेश अग्रवाल से शादी असफल रही थी और तुरंत ही उनकी मृत्यु के बाद रेखा विधवा हो गईं। इसके बाद भी बिना सिंदूर के वो कभी नहीं नजर आती हैं।इस सवाल का जवाब उनकी बायोग्राफी रेखा द अनटोल्ड स्टोरी में लगभग मिल गया जिसे यासिर उस्मान ने लिखा है।

इसकी शुरूआत तब हुई जब पहली बार रेखा, नीतू और ऋषि कपूर की शादी में सिंदूर लगा कर पहुंची। रिपोर्ट्स की माने तो उनका सिंदूर में आना उनके ब्राइडल स्टाइल के साथ और भी ज्यादा जंच रहा था।इस शादी में अमिताभ बच्चन, जया बच्चन और उनके माता पिता के साथ पहुंचे थे इसलिए ये और भी ज्यादा विवादास्पद हो गया था।उस समय उन्होंने कहा कि वो तुरंत शूट पर से आ रही थीं इसलिए उन्हें सिंदूर हटाने का समय नहीं मिला। लेकिन 1982 में राष्ट्रीय पुरस्कार के दौरान उनका बयान था कि “मैं जिस शहर से आती हूं वहां सिंदूर लगाना फैशन है।“

रेखा चाहे सिंदूर सम्मान में या फैशन लगाती हों लेकिन उन्होंने इसे एक फैशन जरूर बना दिया। कहने की जरूरत नहीं है कि भारतीय परंपरा कहती है कि सिंदूर लगाना क्यों औरतों के लिए अच्छा है। सिर्फ सिंदूर नहीं बल्कि तीन और रस्म हैं जो हर महिला को जरूर निभाना चाहिए भले उन्हें उनका मतलब पता हो या नहीं।

पहली बार “स्मूच” की शिकार हुई रेखा

इस किताब में दावा किया गया है कि जब वह 15 साल की थीं तब फिल्म ‘अनजाना सफर’ के एक रोमांटिक गाने की शूटिंग के दौरान एक एक्टर ने उन्हें 5 मिनट तक स्मूच किया था। खबरों के अनुसार गाने की शूटिंग के दौरान जैसे ही डायरेक्टर ने एक्शन बोला, अभिनेता विश्वजीत ने उनके होठों पर 5 मिनट तक स्मूच करते रहे।

फिजिकल रिलेशनशिप पर खुल कर बोलती है रेखा

इसके अलावा इस किताब में यह भी दावा किया गया है कि रेखा सेक्स पर भी खुली राय रखती हैं।उनका कहना है कि आप किसी पुरुष के नज़दीक तब तक नहीं आ सकते, जब तक आप उससे अंतरंग नहीं होते। मेरी किस्मत अच्छी थी कि मैं कभी प्रेग्नेंट नहीं हुई। रेखा के हवाले से बताया जाता है कि उनका मानना है कि ‘ शादी के पहले सेक्स नेचुरल है। रेखा के अनुसार लड़कियों को सुहागरात पर ही सेक्स करना चाहिए, ऐसी बात करना बकवास है।

रेखा की सास ने किया था उनका “चप्पलों” से स्वागत

रेखा अपने बॉयफ्रेंड के बारे में भी खुलकर बाते करती थीं लेकिन उनकी पर्सनल जिंदगी काफी दुखों से भरी हुई है। इसके अलावा इस किताब में कई ऐसी बातों का जिक्र किया गया है जो रेखा के करीबी भी नहीं जानते होंगे। इस किताब में रेखा की शादी का भी जिक्र किया है। बताया जाता है कि उन्होंने कोलकाता में विनोद मेहरा से शादी की थी।

किताब के मुताबिक जब रेखा और विनोद मेहरा कोलकाता में शादी करने के बाद अपने मुंबई वाले घर लौटे तो रेखा का स्वागत फूलों से नहीं चप्पल से हुआ था । विनोद मेहरा की मां इस शादी से बिलकुल खुश नहीं थीं । उन्‍होने तो नई नवेली दुल्‍हन को आशीर्वाद तक नहीं दिया बल्कि उनके चरण स्‍पर्श करने पर उन्‍हे ढकेल दिया । रेखा की सास ने तब उन्‍हें घर में घुसने से भी मना कर दिया था । यासिर की इस किताब में कितनी सच्‍चाई है ये तो यासिर साहब ही जानें ।

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *