दूसरों को जेल भेजने की ध’मकी देने वाली चंद्रकला अब खुद जाएंगी जेल, देख लीजिये क्या क्या किया है

शेयर करे

दूसरों को जेल का खौ’फ दिखाने वाली आईएएस बी.चन्द्रकला आज खुद जेल में जाती दिख रहीं हैं। अब इसके पीछे का कारण या तो सियासी बदला या फिर महिला आईएएस का ईगो भी हो सकता है। IAS बी चंद्रकला (IAS B Chandrakala) के घर जिस दिन खनन घोटाले के मामले में सीबीआई (CBI) का छापा पड़ा, उससे महज नौ दिन पहले ही तेलंगाना में उन्होंने एक प्रॉपर्टी खरीदी थी। यह प्रॉपर्टी एक आवासीय प्लॉट के रूप में है। 107 नंबर का यह प्लॉट तेलंगाना के मलकाजगिरी जिले के ईस्ट कल्याणपुरी में उन्होंने खरीदा।

27 दिसंबर 2018 को ही इस प्लॉट की चंद्रकला ने रजिस्ट्री कराई थी। खास बात है कि 22.50 लाख रुपये के इस प्लॉट को उन्होंने बिना किसी बैंक लोन के खरीदा। NDTV के अनुसार, छापे से तीन दिन पहले ही चंद्रकला की ओर से एक जनवरी 2019 को आईपीआर (Immovable Property Return) दाखिल किया गया था। वर्ष 2018 की संपत्तियों के ब्योरे के लिए भरे इस रिटर्न में उन्होंने अपनी कुल सैलरी 91,400 रुपये महीना बताई। हालांकि एक चौंकाने वाली बात रही कि एक जनवरी 2019 को भरे इस रिटर्न में IAS बी चंद्रकला (IAS B Chandrakala) ने अपने पास सिर्फ इसी प्रॉपर्टी की जानकारी दी है। उसके पूर्व के वर्षों में भरे रिटर्न में उन्होंने जिन संपत्तियों की सूचना दी थी, उसके बार में नए रिटर्न में कोई सूचना नहीं है। सवाल उठता है कि क्या चंद्रकला (IAS Chandrakala) ने पूर्व की सारी प्रॉपर्टियां बेच दीं, या फिर किन वजहों से उन्होंने नए रिटर्न में उसकी सूचना नहीं दी।

सपा की अखिलेश यादव सरकार में हमीरपुर, बुलंदशहर, मेरठ सहित पांच प्रमुख जिलों में डीएम रहने के बाद बी चंद्रकला ने नई सरकार आते ही दिल्ली में प्रतिनियुक्ति मांग ली। योगी आदित्यनाथ सरकार बनने के बाद यूपी के बजाए दिल्ली में काम करने के उनके फैसले की चर्चा रही थी। बहरहाल, मार्च, 2017 मे ही वह दिल्ली पहुंचीं और स्वच्छ भारत मिशन की निदेशक रहीं। फिर साध्वी निरंजन ज्योति की निजी सचिव बनीं। इसके बाद फिर वह पिछले साल ही दोबारा यूपी लौटीं। माध्यमिक शिक्षा विभाग में विशेष सचिव का चार्ज लेने के बाद ही वह स्टडी लीव (शैक्षिक अवकाश) पर चली गईं। हमीरपुर में डीएम रहते चंद्रकला पर सपा एमएलसी रमेश मिश्रा सहित कुल 10 लोगों के साथ मिलकर अवैध खनन का आरोप है। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर जांच में जुटी सीबीआई ने शनिवार (5 जनवरी) को उनके अलावा अन्य आरोपियों के ठिकानों पर छापेमारी की। एक जनवरी 2019 को उनके खिलाफ सीबीआई के डिप्टी एसपी केपी शर्मा ने खनन मामले में केस दर्ज किया है।

बी चंद्रकला (B Chandrakala IAS) की कैसे बढ़ी संपत्ति:

नौकरी की शुरुआत में शून्य : बी चंद्रकला 2008 बैच की IAS हैं। ट्रेनिंग के बाद 2010-11 में वह इलाहाबाद में एसडीएम रहीं। IAS, आईपीएस आदि अफसरों को हर साल का आईपीआर नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग को वर्ष बीतने के बाद जनवरी के पहले हफ्ते तक उपलब्ध कराना होता है। वर्ष 2010 का रिटर्न उन्होंने जनवरी 2011 में दाखिल किया। रिटर्न में उन्होंने उस वक्त एक भी रुपये की संपत्ति नहीं दिखाई। फिर वर्ष 2011 का रिटर्न उन्होंने 2012 में दाखिल किया। उस वक्त उन्होंने आंध्र प्रदेश के रंगारेड्डी नगरपालिका में 10 लाख रुपये कीमत के आवासीय प्लॉट होने की जानकारी दी। रंगारेड्डी जिला अब तेलंगाना का हिस्सा है। उन्होंने बताया कि यह प्लॉट उनके पति ए. रामुलू के नाम है, जिसे उन्होंने बचत के पैसे से खरीदा है।

2012 में कितनी संपत्ति :

वर्ष 2012 में कितनी संपत्ति उन्होंने अर्जित की, इसका रिटर्न उन्होंने 2013 में दाखिल किया। यह पहली बार था, जब चंद्रकला ने अपने नाम एक प्रॉपर्टी दिखाई। उन्होंने आंध्र प्रदेश के अन्नपूर्णानगर में 267 Square Yards के प्लॉट पर 30 लाख कीमत का घर होने की जानकारी दी। यह प्लॉट/घर उन्होंने मंजुला नामक महिला से खरीदने की जानकारी दी। इससे रेंट के रूप में डेढ़ लाख रुपये सालाना कमाई का दावा किया। मकान खरीदने में इस्तेमाल धनराशि के सोर्स के बाबत बताया कि उन्होंने 23.50 लाख रुपये बैंक से लोन लिए, ढाई लाख पर्सनल सेविंग और चार लाख रुपये प्राइवेट लोन लेकर इसे खरीदा। उन्होंने एसबीएच से 23.50 लाख रुपये लोन की बात कही।

2013 में 48 लाख का फ्लैट दिखाया गिफ्ट : बी चंद्रकला वर्ष 2013 में हमीरपुर की जिलाधिकारी (डीएम) थीं। उन्होंने 2013 की संपत्तियों का रिटर्न एक जनवरी 2014 को दाखिल किया। चंद्रकला की पूर्व की संपत्तियों में एक और संपत्ति जुड़ी। यह संपत्ति थी लखनऊ के सरोजि‍नी नायडू मार्ग पर फ्लैट की। उन्होंने बताया कि बेटी कीर्ति चंद्रा के नाना-नानी ने 2012 में 48 लाख रुपये का फ्लैट खरीदकर गिफ्ट दिया, जिसकी कीमत उस वक्त (रिटर्न) के वक्त 55 लाख है। रिटर्न में चंद्रकला ने आंध्र प्रदेश के अन्नपूर्णानगर में 30 लाख रुपये का अपने नाम घर दिखाया। इस मकान को उन्‍होंने 2012 के रिटर्न में भी दिखाया था। इस रिटर्न में उन्होंने पति के नाम का वह पुराना प्लॉट भी दिखाया जो दस लाख कीमत का और बचत की धनराशि से खरीदा गया। इसके अलावा उन्होंने एक नई प्रॉपर्टी की जानकारी दी। बताया कि आंध्र प्रदेश के करीमनगर में 2.37 एकड़ खेती लायक जमीन को 2013 में उनके पति ने 4.39 लाख रुपये में खरीदी है। इस जमीन से उन्होंने एक लाख रुपये सलाना कमाई दिखाई है। हमीरपुर की डीएम थीं, उस वक्त चंद्रकला ने प्रजेंट पे के रूप में अपनी सैलरी 44998 रुपये दिखाई।

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *