बेटी पहले आई दुल्हन की तरह सज संवरकर और फिर मुंडवा डाले अपने बाल, जाने बड़ी वजय

शेयर करे

दोस्तों इस संसार में जब कोई व्यक्ति आता है तो जैसे जैसे वह बड़ा होता है उसके मन में सपने आने लगते है. वह अपने जीवन को लेकर कई तरह के सपने देखने लगता है. सपनों की बात करे तो ज्यादातर लडकियों का सपना शादी करने का होता है. वे चाहती है कि उन्हें एक सुंदर सा लड़का मिले और अच्छा परिवार मिले. उन्हें शादी के बाद एक ऐसा परिवार मिले जो उन्हें बहुत सारी खुशियाँ दें.

शादी के बाद हर लडकी के लिए उसका ससुराल ही सबकुछ होता है. लडकियाँ मन की चंचल होती है. उन्हें सजना संवरना ज्यादा अच्छा लगता है लेकिन आज हम आपको एक ऐसी लडकी के बारे में बताने जा रहे है जिसे सांसारिक मोह माया से कोई लगाव नही है.

जी हां हरियाणा के पानीपत की सिमरन को सांसारिक माया से कोई मोह नही है. उसे वैरागी जीवन ज्यादा पसंद है. सिमरन के पिता का सपना था कि उनकी बेटी अपना करियर बनाए. वे उसे कुछ बनते हुए देखना चाहते थे. सिमरन ने ग्रेजुएशन किया है उसके घर में 2 भाई और बहन और माता पिता है. सिमरन के पिता ने बहुत कोशिश की वे बेटी को अच्छी शिक्षा देकर उसकी शादी किसी अच्छे घर में करे लेकिन सिमरन तो दीक्षा लेने का फैसला कर चुकी थी. बीते सोमवार को जैन भगवती महोत्सव में गौतम मुनि जी सिमरन का नाम बदलकर महासती श्री गौतमजी दिया. सिमरन की बग्गी पुरे शहर में घूमी थी.

इसके बाद वह जगह जगह घूमी उसने बताया कि उसे कहीं भी शांति नही मिली. लेकिन जब वे गुरुजनों की शरण में आई तो उसे एक अलग सा सकुन महसूस हुआ. जब दीक्षा की विधियाँ शुरू हुई तो सिमरन जोकि एक दुल्हन की तरह सजी हुई थी. उसने रविवार को हाथो में मेहँदी भी रचाई थी और उसके घरवालो ने उसके मनपसन्द की दिश बनाई थी सभी ने साथ मिलकर खाना खाया और बाते करते हुए समय बिताया. फिर अगले दिन वह दुल्हन की तरह सजसंवरकर आई. इसके बाद सिमरन ने अपने सारे गहने उतार दिए और अपनी माँ को दे दिए. इसके बाद सिमरन ने सबके सामने अपना सर मुंडवाया.

सिमरन ने बताया कि किसी भी व्यक्ति के लिए वैरागी बनना इतना आसान नही है. वैराग्य की राह आसान नही है. इसके लिए आपको बहुत संघर्ष करना पड़ता है. उन्होंने कहा वे सकुन पाने के लिए पुरे देशभर में घूमी लेकिन उन्हें कहीं शांति नही मिली. लेकिन जैसे ही वे गुरुजनों के समीप आई तो यहाँ आकर उसने जाना कि आत्मा का परमात्मा से जुड़ना ही असली सुख है. सिमरन के इस फैसले से उनके पिता काफी दुखी हुए. उन्होंने कभी सोचा भी नही था कि उनकी बेटी इतना बड़ा फैसला लेगी. सिमरन के फैसले ने हर किसी को हैरान कर दिया था. लेकिन सिमरन का कहना है कि इस संसार में हर कोई आपका इस्तेमाल करता है.

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *