इन आसान तरीकों को अपनाकर चंद मिनटों में पहचाने सोना असली है या नकली

शेयर करे

हम सभी जानते हैं कि हमारे भारतीय समाज में सोने का कितना महत्‍व है वहीं आपको बता दें कि हमारी संस्‍कृति में महिलाओं को सोना पहना अनिवार्य माना गया है।आज के समय में भी सोना जबकि इतना महंगा हो चुका है तो भी लोगों की पहली पसंद बना हुआ है पर हममें से ज्‍यादा लोग ऐसे हैं जो सोने की असली पहचान नहीं कर पाते हैं जिसकी वजह से उनको मिलावट वाले सोने की खरीदारी करनी पड़ती हैं और वो जाने अनजाने में ही ठगे जाते हैं।सोने के गहने लेते वक्त सबसे पहला विचार यही आता है कि वह कितना शुद्ध है और उसपर कितना रिटर्न मिलेगा। यूं तो हर दुकानदार अपने बेचे गए गहने को मार्केट में चल रहे रेट के अनुसार वापस लेने का दावा करता है लेकिन अगर आप उसके पास जाएंगे तो जरूरी नहीं कि दावे के अनुरूप ही मुनाफा मिले और सोना वाकई उतना शुद्ध हो जितना कि उसका दावा।

मुनाफे के लिए कई सराफा कारोबारियों द्वारा ऐसा अशुद्ध माल लगातार धड़ल्ले से बेचा जाता है। शुद्ध सोना के नाम पर इसमें चांदी, तांबा और जस्ता की मिलावट की जाती है। जानकारी न होने के चलते लोग असली सोने की पहचान नहीं कर पाते हैं और मिलावटी सोने को खरीदकर अपनी मेहनत की कमाई लुटा बैठते हैं। दुकानदारों के इस धोखे से बचने के लिए हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे तरीके जिन्हें आजमाकर आप सोने की शुद्धता और उसके असली-नकली होने का फर्क जान सकते हैं।

1. सबसे पहले तो आप ये जान लें कि अगर आप भी सोने की शुद्धता को परखना चाहते हैं तो इस‍के लिए एक आसान सा उपाय है जो आप कहीं भी अपनाकर जांच सकते हैं सोना असली है या नकली। तो बता दें कि इसके लिए आपको सोने को अपने दांतो के बीच में दबाना होगा और अगर सोने के ऊपर दातों के निशान बन जाते हैं तो यह सोना असली है और यदि सोने पर यह निशान नहीं बनते हैं तो आप समझ जाइए कि यह सोना नकली है।

Source-Google

2. अब ये रहा दूसरा तरीका भी बताने जा रहे हैं आप चाहे तो इस तरीके को अपनाकर भी सोने की शुद्धता को परखने के लिए मैगनेट टेस्ट भी कर सकते हैं क्योंकि सोना कोई चुंबकीय धातु नहीं है। वहीं आपको ये भी बता दें कि ऐसे में अगर आपको सोने की शुद्धता को लेकर कोई भी आशंका है तो इसके लिए आप एक स्ट्रांग चुंबक लेकर उसको सोने के पास ले जाएं। यदि सोना चुंबक पर थोड़ा सा भी चिपकता है तो इसका मतलब है कि सोना शुद्ध नहीं है सोने में कुछ मिलावट है।

3. वहीं आपको बता दें कि एसिड से भी सोने की शुद्धता की जांच कर सकते हैं पहचान की जा सकती है। इसके लिए आपको सोने पर 1 पिन से हल्की सी खरोच लगानी होगी और फिर उस खरोंच वाली जगह पर आप कुछ बूंदे नाइट्रिक एसिड की लगाएं। यदि सोना तुरंत ही हरा हो जाता है तो आप बिल्कुल समझ जाइए कि सोने में कुछ मिलावट अवश्य है सोना पूर्ण रुप से शुद्ध नहीं है।

Source-Google

ऐसे में सोने के लिए बीआईएस 916 हॉलमार्क को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शुद्धता का पैमाना माना जाता है जिसमें यह गारंटी होती है कि सोना 91.6 प्रतिशत खरा है यानी 22 कैरट है। त्यौहारी सीजन के अलावा विवाह के सीजन आदि में भी सोना-चांदी काफी मात्रा में बिकता है। वहीं इस दौरान खरीदी में लगातार नकली और मिलावटी सोना की शिकायतें आती रहती है।

हॉलमार्क के गहने खरीदते वक्त आपको थोड़ी कीमत अधिक देनी होगी जिसमें इस परीक्षण की लागत को शामिल किया जाता है। कई बार हॉलमार्क के गहनों की कीमत भी अलग-अलग दुकानों पर अलग-अलग हो सकती है। इसलिए कई जगहों पर जानकारी लेकर उपयुक्त जगह से ही हॉलमार्क सोना खरीदें।

शेयर करे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *