‘बप्पा मोरया’ के आगमन पर इन 10 बातों का अवश्‍य रखें ध्यान !

शेयर करे

दोस्तों, हर साल की तरह इस वर्ष भी 2 सितंबर, सोमवार से गौरी-पुत्र श्री गणेश जी हमारे मध्य पूरे दस दिनों के लिए विराजमान रहेंगे। अनेक नामों से विभूषित किए जाने वाले श्री गणेश हर शुभ कार्य के पहले पूजे जाते हैं। दोस्तों आज की इस वीडियो में हम आपको बताएंगे कि बप्पा के आगमन के बाद आपको किन किन ख़ास बातों का ध्यान रखना है.

प्रथम पूज्य गणेश जी ऐसे आराध्य हैं, जिनका आह्वान किए बगैर आप कोई भी कार्य शुरू नहीं कर सकते। चाहे वास्तु पूजन, जनेऊ संस्कार, शुभ विवाह, मांगलिक कार्य तथा किसी व्रत का उद्यापन हो, सभी में सबसे पहले श्री गणेश का पूजन अवश्य किया जाना चाहिए। श्री गणेश का सबसे विशिष्ट गुण इनका विघ्न-विनाशक होना है इसलिए इनकी जितनी भी स्तुति की जाए कम है। इस समय हमारे प्रिय ‘बप्पा मोरया’ के घर आगमन की खुशी में बच्चों से लेकर बूढ़ों तक सभी में एक जैसा उत्साह रहता है। तो आइए जानें इन प्रथम पूज्य भगवान श्री गणेश के पूजन करते समय किन बातों का ध्यान अवश्य रखा जाना चाहिए।

-सबसे पहले तो श्री गणेश को दूर्वा जरूर चढ़ाएं। गणेश पूजा में दूर्वा का विशेष महत्व है।

-तुलसी दल श्री गणेश को न चढ़ाएं। क्यूंकि गणेश जी को तुलसी अर्पित नहीं की जाती है।

-जनेऊ न पहनने वाले लोग केवल पुराण मंत्रों से ही श्री गणेश पूजन करें।

-सिंदूर, घी का दीप और मोदक भी पूजा में अर्पित करें।मोदक गणेश जी को अतिप्रिय हैं।

Source-Google

-साथ ही सिंदूर व शुद्ध घी की मालिश इनको प्रसन्न करती है।

-अगर तीनों समय पूजा कर पाना संभव न हो तो सुबह ही पूरे विधि-विधान से श्री गणेश की पूजा कर लें, वहीं दोपहर और शाम को मात्र फूल अर्पित कर पूजा की सकती है।

Ganesh 1
Source: Google

तो दोस्तों इन बातों का ध्यान रखकर आप गणपति पूजन करें।

शेयर करे